#मृदु_व्यंग

हंसो और हंसाओ सबको बड़ी चीज़ है हँसना………

सत्य पथ

Laughter

लड़का और लड़की समंदर के किनारे बैठे थे और तभी लड़की बोली: तुम कब तक मेरे साथ रहना चाहते हो? लड़के ने अपना एक आंसू समंदर में गिराया और बोला: जब तक तुम इस आंसू को न ढूंढ लो तब तक। यह सुनकर समंदर से ही नहीं रहा गया और बोला: सालो ! तुम लोग इतनी लंबी-लंबी सीखते कहां से हो ? इस पर लड़का और लड़की दोनों एक साथ बोले: मोदी जी से।😂😂

View original post

Advertisements
#मृदु_व्यंग

#मृदु_व्यंग

 

 

Laughter

लड़का और लड़की समंदर के किनारे बैठे थे और तभी लड़की बोली: तुम कब तक मेरे साथ रहना चाहते हो? लड़के ने अपना एक आंसू समंदर में गिराया और बोला: जब तक तुम इस आंसू को न ढूंढ लो तब तक। यह सुनकर समंदर से ही नहीं रहा गया और बोला: सालो ! तुम लोग इतनी लंबी-लंबी सीखते कहां से हो ? इस पर लड़का और लड़की दोनों एक साथ बोले: मोदी जी से।😂😂

#मृदु_व्यंग

संबोधन

प्रकृति से मोहित होकर प्रकृति से भी शिकवे करने से भी नहीं चुकता इंसान. मानव प्रवृति को दर्शाती ये लघु कविता होठों पर हलकी सी ही सही, मुस्कान भी ला देती है. आनंद लें.

सत्य पथ

!Moon 2

चाँद !

तुम्हारी तारीफ में शायरों ने

बड़े बड़े कसीदे पढ़े हैं

मृगनयनियों के मुखड़े भी

तुम्हारी उपमाओं से जड़े हैं.

माना नववधुएँ भी तुम्हारा

दीदार पाकर ही जलपान करती हैं,

ईद भी तो तुम्हारे दर्शन

पाकर ही मानती है.

क्या इसीलिए तुम अपनी शान

पर इतराते फिरते हो?

शिव की जटाओं में हो सुशोभित

इसी से इठलाते फिरते हो?

एक बात तो बताओ

हम तुम्हारा एतबार करें तो कैसे करें?

जब हर दिन हर रात

चेहरा आप अपना बदला करें.

पूनम का चाँद माना

सोलह कलाओं से भरपूर होते हो,

मगर ये तो बताओ

अमावस्या की रात तुम कहाँ रहते हो?

डॉ भारद्वाज क्षजान    

View original post

संबोधन

संबोधन

 

via संबोधन

प्रकृति से मोहित होकर प्रकृति से भी शिकवे करने से भी नहीं चुकता इंसान. मानव प्रवृति को दर्शाती ये लघु कविता होठों पर हलकी सी ही सही, मुस्कान भी ला देती है. आनंद लें.

संबोधन

संबोधन

 

 

!Moon 2

चाँद !

तुम्हारी तारीफ में शायरों ने

बड़े बड़े कसीदे पढ़े हैं

मृगनयनियों के मुखड़े भी

तुम्हारी उपमाओं से जड़े हैं.

माना नववधुएँ भी तुम्हारा

दीदार पाकर ही जलपान करती हैं,

ईद भी तो तुम्हारे दर्शन

पाकर ही मानती है.

क्या इसीलिए तुम अपनी शान

पर इतराते फिरते हो?

शिव की जटाओं में हो सुशोभित

इसी से इठलाते फिरते हो?

एक बात तो बताओ

हम तुम्हारा एतबार करें तो कैसे करें?

जब हर दिन हर रात

चेहरा आप अपना बदला करें.

पूनम का चाँद माना

सोलह कलाओं से भरपूर होते हो,

मगर ये तो बताओ

अमावस्या की रात तुम कहाँ रहते हो?

डॉ भारद्वाज क्षजान    

संबोधन

#इश्क_की_महक

रूहानी इश्क ईश्वर की प्राप्ति में सहायक होता है.

सत्य पथ

Shiri 1

इश्क जब होता है

ज़र्रा ज़र्रा गीत गाता है

धडकते दिल के साथ साथ

रोम रोम थिरकता है.

परवर दिगार का ज़लवा

माशूक में झलकता है

इश्क की महक से तो

कण कण भी महकता है.

पाने को उसकी एक झलक

मंदिर मस्जिद भटकते हो

गौर तो करो जरा

पास ही तो वो रहता है.

शीरी ने पाया उसे

अपने ही फरहाद में

हो गई फिर वो फ़ना

अब शीरी में वो रहता है. <><><><><> डॉ भारद्वाज

View original post

#इश्क_की_महक