खोया बचपन

बच्चों का खो गया बचपन इस नंगी आधुनिकता में 

वरना सोलह से ऊपर तक बच्चे “बच्चे” बने रहते थे. 

 

Advertisements
खोया बचपन

3 thoughts on “खोया बचपन

  1. बच्चों का खो गया बचपन इस नंगी आधुनिकता में 
    वरना सोलह से ऊपर तक बच्चे “बच्चे” बने रहते थे. 
    अब वे न बच्चे ही रहे न ही हुए हैं पूर्णरूपेण व्यस्क
    दिल तो है जवान मगर शरीर से वे अशक्त रहते हैं.

    Liked by 1 person

  2. Reblogged this on खोया बचपन and commented:

    बच्चों का खो गया बचपन इस नंगी आधुनिकता में 
    वरना सोलह से ऊपर तक बच्चे “बच्चे” बने रहते थे. 
    अब वे न बच्चे ही रहे न ही हुए हैं पूर्णरूपेण व्यस्क
    दिल तो है जवान मगर शरीर से वे अशक्त रहते हैं.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s