मानमर्दिनी

आज पार्वती ६५ को पार कर चुकी है। एक जिंदगी गुज़र गई है । वो चाहती थी कि वो न केवल नीलेन्दु की और बल्कि सुधीर की भी “पारो” बनी रहे। मगर वो न नीलेन्दु की “पारो” बन पाई और न ही सुधीर की रह पाई। आज जब ज़…

Source: मानमर्दिनी

Advertisements
मानमर्दिनी

2 thoughts on “मानमर्दिनी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s